एक कुण्डली


रोशनी किरण

_सूखा उपवन भी खिला , पाकर तुमरा प्यार ।

            ऐ गुरुवर मेरे तुम्हीं , एक तुम्हीं दातार ।।

            एक तुम्हीं दातार , और ना कोई मेरा ।

            दें चरणों में छांव , यही है मेरा डेरा ।।

          कहे " किरण " कर जोर , प्रभू मन मेरा भूखा ।

          दर्शन दे दें आप , खिले मन , उपवन सूखा ।।


    ______ रोशनी किरण ( मुंबई )

                  १ जून २०२१

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image