ग़ज़ल

   


डॉ शाहिदा

ये पंक्षी की उड़ान है, इसे लफ़ज़ों में न‌ क़ैद कर

ये प्यार की ज़ुबान है, इसे लफ़ज़ों में न क़ैद कर,


किसी की सोच पर भला, कोई इख़तियार क्यूँ ,

ये अलग ख़याल है , इसे लफ़ज़ों में न क़ैद कर ।


ख़ुश्बू हवाओं संग चली कोई कब देख है पाया 

ये हवा आज़ाद है , इसे लफ़ज़ों में न क़ैद कर ।


रेत पर लिखी इबारत कब मिल गयी ख़ाक में

ये अलग जज़बात है, इसे लफ़ज़ों में न क़ैद कर।


दिल का दर्द दिल में रहें होठों पर हों मुस्कुराहटें,

ये राज़ की बात है, इसे लफ़ज़ों में न क़ैद कर।


दरिया की लहरों पे लिखा ख़त पहुंच गया उस तक

ये प्यार का पैग़ाम है, इसे लफ़ज़ों में न क़ैद कर ।

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image