छंदबद्ध रचना

 

साधना कृष्ण

बतलाओ मोहन हम कबतक ,चैन व करार माँगें।

बाल ग्वाल सभी गोपीका, तुझसे प्यार माँगें।।


छोड़कर द्वेष ,चिन्ता तजो, जल्दी से जग जाओ ।

देखकर सुन्दर नजारे तू , मानस को हरसाओ।।


राधिका ने खुद कुल्हाड़ी, खुद ही खुद को मारी।

चितचोर थे कान्हा दिल विल ,,सब कुछ वह हारी।।


मोहन मुरली वाला है तो, राधा है सुकुमारी।

 मोहन विवेक भंडार लगे , तो राधा फुलवारी।

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मैंने मोहन को बुलाया है वो आता होगा : पूनम दीदी
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image