बेशक कम मजदूरी होगी

 


डॉ अनुज कुमार चौहान "अनुज"

रातों रात बदलते सपने ,बेशक कम मजदूरी होगी ।

तुमने हमको आज पुकारा,शायद कुछ मजबूरी होगी ।।

उसी आश से,उसी प्यास से ।

उसी राग विस्वास , पास से ।।

जीवन के सब साज सजादो ,मुझ बिन जीत जरूरी होगी ।

रातों रात बदलते सपने,बेशक कम मजदूरी होगी ।

किसी देश की मुद्रा बदली ।

राहत काज तवज्जो बदली ।।

गीतों के पल तुमको अर्पित,गजल रागिनी पूरी होगी ।

रातों रात बदलते सपने ,बेशक कम मजदूरी होगी ।।

गलत अर्थ दूनियाँ के देखे ।

मोल व्यर्थ सुविधा के लेखे ।।

बेहद उम्दा था वह निर्णय,थोडी-सी बस दूरी होगी ।

रातों रात बदलते सपने, बेशक कम मजदूरी होगी ।।

तुम भी मीत अकेले पढ़ लें ।

हम भी रीत प्रीत की गढ़ लें ।।

समय रिक्त असमय कह पाता,मन घायल मंजूरी होगी ।

रातों रात बदलते सपने, बेशक कम मजदूरी होगी ।।

तेरे बहुत कीमती गहने ।

तेवर समझ सके नहिं अपने ।।

भाव उदासी क्षण कोयल के,रंग राग सिन्दूरी होगी ।

रातों रात बदलते सपने, बेशक कम मजदूरी होगी ।।

राज पाट के ठाट बदलते ।

रन्कों के भी घाट मचलते ।।

शर्त बनी लाचार सरीखी,बेहद कुशल गुरूरी होगी ।

रातों रात बदलते सपने ,बेशक कम मजदूरी होगी ।।

डॉ अनुज कुमार चौहान "अनुज"

अलीगढ़ ,उत्तर प्रदेश ।

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image