यादें



कमलेश मुद्ग् ल

आज फिर अकेले थे                                                           याद आ गई तुम्हारी                                                          लगा कोई साथ है                                                              प्यार का अहसास करा रहा है                                              लहर की तरह आती है याद                                                लहर की तरह चली जाती है                                               तब भी उठती है                                                             दिल में टीस मेरे                                                                 अकेले ही रहना है                                                                    जान ती हूँ तब भी                                                              किसी के आने की                                                            आहट सुकून दिलाती है                                                       बह जाती हूँ इस धारा में                                                      जानती हूँ, ठीक हूँ मैं                                                         पर समझ कर                                                                  नासमझ बन जाती हूँ                                                          

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image