यादें



कमलेश मुद्ग् ल

आज फिर अकेले थे                                                           याद आ गई तुम्हारी                                                          लगा कोई साथ है                                                              प्यार का अहसास करा रहा है                                              लहर की तरह आती है याद                                                लहर की तरह चली जाती है                                               तब भी उठती है                                                             दिल में टीस मेरे                                                                 अकेले ही रहना है                                                                    जान ती हूँ तब भी                                                              किसी के आने की                                                            आहट सुकून दिलाती है                                                       बह जाती हूँ इस धारा में                                                      जानती हूँ, ठीक हूँ मैं                                                         पर समझ कर                                                                  नासमझ बन जाती हूँ                                                          

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image