ग़ज़ल



विद्या भूषण मिश्र "भूषण"

नहीं चाहता मैं तुम्हें भूल जाऊँ, मगर याद आकर रुला तो न दोगे!

ख़ुदा की कसम तुम बहुत याद आते, मेरी याद को तुम मिटा तो न दोगे!!

~~~~~

बसा ली है नज़रों में सूरत तुम्हारी, धड़कता मेरा दिल तेरी धड़कनों से;

मगर ये मुझे डर सताने लगा है, मुझे तुम नज़र से गिरा तो न दोगे!!

~~~~~

खिला तो दिया है चमन मेरे दिल का, मकीं बन के तुम उसमें रहने लगे हो;

यकीं तो दिला दो मुझे सिर्फ इतना, मेरे दिल को सहरा बना तो न दोगे!!

~~~~~

चहकने लगी है निकल के क़फ़स से, मेरे दिल की बुलबुल खुशी के चमन में;

बता दो मुझे तुम कि सय्याद बन कर, उसे क़ैद में फ़िर बिठा तो न दोगे!!

~~~~~

मेरी बन्द पलकों पे ठहरा हुआ है, मचलता समन्दर मेरे आँसुओं का;

सुना के मुझे तुम जफ़ा के फ़साने, मेरे आँसुओं को बहा तो न दोगे!!

~~~~~

तिरे साथ मिल कर बनाया है मैंने, बहुत खूबसूरत सा इक आशियाना;

उमीदों का जो आशियाना बना है, उसे बेवफ़ा बन जला तो न दोगे!!

~~~~~

ज़ुदा हो के तुम से नहीं जी सकूँगा, ग़मे हिज़्र में रो के मर जाऊँगा मैं;

अभी मिल गए हो मुझे इस जनम में, तो सातों जनम तक निभा तो न दोगे!!

~~~~~

- *विद्या भूषण मिश्र "भूषण", 

बलिया उत्तरप्रदेश -*

~~~~~~~~~~

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image