रव जाने



रश्मि मिश्रा 'रश्मि'

किसने,,कितनी आग लगाई, रव जाने!!

   कौन है कितना हरजाई,रव जाने!!

सीरत-सूरत को पढना मेरा काम नहीं

       मैं तो पीड़ा का सौदाई ,ये रव जाने!!



किसके दामन में कितने दाग लगे 

  क्यों नजर रखूं

आने वाला कल कैसा होगा क्यों फिकर करूं

एक अबूझ पहेली सा है ये जीवन,,,

ठहरेगा कौन,,किसे जाना होगा ये रव जाने!!


बहता दरिया सा पानी है ये जिंदगानी

फिर भी इंसा करता है मनमानी

   निश्चित परिणाम सामने आएगा,,

कितनी की तूने नादानी ये रव जाने!!


रश्मि मिश्रा 'रश्मि'

भोपाल (मध्यप्रदेश)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image