रव जाने



रश्मि मिश्रा 'रश्मि'

किसने,,कितनी आग लगाई, रव जाने!!

   कौन है कितना हरजाई,रव जाने!!

सीरत-सूरत को पढना मेरा काम नहीं

       मैं तो पीड़ा का सौदाई ,ये रव जाने!!



किसके दामन में कितने दाग लगे 

  क्यों नजर रखूं

आने वाला कल कैसा होगा क्यों फिकर करूं

एक अबूझ पहेली सा है ये जीवन,,,

ठहरेगा कौन,,किसे जाना होगा ये रव जाने!!


बहता दरिया सा पानी है ये जिंदगानी

फिर भी इंसा करता है मनमानी

   निश्चित परिणाम सामने आएगा,,

कितनी की तूने नादानी ये रव जाने!!


रश्मि मिश्रा 'रश्मि'

भोपाल (मध्यप्रदेश)

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image