मजलूमों से प्यार जताने आया हूँ

 


साधना कृष्ण

मैं भटके को राह दिखाने आया हूँ।

मजलूमों से प्यार जताने आया हूँ।।

-----------------------------------------

खोये हैं जिन आँखों से ख्वाब नये से।

उन आँखों में ख्वाब सजाने आया हूँ।।

-------------------------------------------

जीवन की इन पथरीली सी गलियों में।

लेकर छेनी राह बनाने आया हूँ।।

---------------------------------------------

बैठे हैं जो ओढ़ उदासी की चादर।

उनकी अधरों हास खिलाने आया हूँ।

---------------------------------------------

सोई सोई जिसके मन की हिम्मत है।

उस दिल में विश्वास जगाने आया हूँ।।

--------------------------------------------

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
पीर के तीर
Image