ज़रूरी है

 


स्मिता पांडेय

बिछड़े दोस्तों के साथ, कुछ वक्त बिताने के लिए,

जिंदगी के इस सफ़र की, थकान को मिटाने के लिए

               इस दौड़ पर विराम जरूरी है।

बीती बातें भुलाने के लिए, खुद को समझाने के लिए,

बोझिल सी इस जिंदगी में, कुछ पल मुस्कुराने के लिए,

              इक क्षणिक विश्राम जरूरी है।

भीगी पलकें छिपाने के लिए, रूठों को मनाने के लिए,

बिखरी सी इस जिंदगी को, रंगों से सजाने के लिए,

               रिश्तो में मिठास जरूरी है।

कलम को उठाने के लिए, कुछ लिख पाने के लिए,

अपनी जिंदगी का हर गीत, स्वतः गुनगुनाने के लिए,

              साज़ों में आवाज़ जरूरी है।


स्वरचित 

स्मिता पांडेय लखनऊ

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
गीता सार
भिण्ड में रेत माफियाओं के सहारे चुनाव जीतने की उम्मीद ?
Image
सफलता क्या है ?
Image