ग़ज़ल



सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

वह वक्त आ गया इन्सान करले भलाई आज तो। 

क्या है फा़नी जिन्दगी में करले कमाई आज तो।


नेकियाँ करते चलो नजदीक ही पड़ाव आएगा,

आ खत्म करलें भीतर की सारी बुराई आज तो।


बैठ मत सोंचे कि यह उम्र बैठी रहेगी सौ बरस,

इक पल का भरोसा नहीं भूल जा लड़ाई आज तो।


किसकी कब खबर बन जाए यह सुन-सुन के हैरां हैं, 

दुवाओं की मिल्कियत बटोर मेरे भाई आज तो।


सारी बदियों को छोडकर चल रहबरी की राह पर, 

उसकी अदालत में होगी मीत सुनवाई आज तो। 


जिन्दगानी बस चार दिन एक दिन जाना है सबको, 

पा ले उसके रहमोकरम करले बुआई आज तो। 


मौत भी नासाज़ हो जाती यहाँ दुआ के सामने, 

मिन्नतें करले यही बीमारों की दवाई आज तो। 


सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

इन्दौर मध्यप्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image