एक ज्योति


रात होने से पहले हीं ,

एक तुम ,

ज्योति आशा की,

अब तुम जला लो ।

जाने कब हो,

धरा पर अंधेरा,

उससे पहले,

सवेरा बना दो ।।


देखना है दशा,

उस तूफां की,

जो उजाड़ा है,

घर दोस्ती का ।

लेके विस्वास में,

सबको अपने,

पथ दिखाया,

हमें दुश्मनी का ।।


वो जमाना क्या,

फिर न दिखेगा,

जिसमें दिखती थी,

अपनों की खुशियां ।

वो समय क्या,

मिलेगा दुबारा ,

अपनी लगती थी,

ये सारी दुनियां ।।


खोज हमने,

किए हैं हजारों,

इस धरातल को,

छिन्न भिन्न कर के ।

चैन से जिंदगी,

चल सके वो ,

एक ऐसा भी,

हम खोज करते ।।


एक नजर में,

सब तुम समझ लो,

कुछ अच्छाई न,

कोई किया है ।

भाई कहने से,

भाई ना होता ,

राम भाई को,

जैसे किया है ।।


है धरातल पर,

अब भी अंधेरा,

मिट सके ना जो,

कुछ जूगनूंओं से ।

एक ज्योति हीं,

काफी यहां पर ,

प्रज्वलित हो जो,

हर एक गुणों से ।।

✍️ ऋषि तिवारी "ज्योति"

चकरी, दरौली, सिवान (बिहार)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image