रक्तबीज

       


राकेश चन्द्रा

टॅंकते थे बटनहोल में सुन्दर गुलाब से

टूटे हुये बटन हैं वो आज चन्द लोग ।

 

ढ़ोते हैं अब बेताल को विक्रम बने हुये

परिचित सरों को फांदकर जो बढ़ गये थे लोग ।

 

करते थे राजमार्ग पर जो रफ्तार का पीछा

खामोश हो गये हैं वो लामबन्द लोग ।

 

थे लूटते जो कारवां रहबर के भेष में

नये कारवां की खोज में हैं मुब्तिला वो लोग ।

 

टॉनिक की तरह पीते रहे औरों का जो लहू

लिपटे हुये अनार पर अमरबेल से हैं लोग ।

 

खून से सनी हुई माफिक जमीन में

लहलहाते रक्तबीज वो आज बन  गये हैं लोग ।


राकेश चन्द्रा

610/60, केशव नगर कालोनी, 

सीतापुर रोड, लखनऊ

 उत्तर-प्रदेश-226020,              

दूरभाष नम्बर : 9457353346

rakeshchandra.81@gmail.com

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image