खुश रहने की अदा सीख लूं


अनुपम चतुर्वेदी


गीत लिख जाऊंगी मैं अमिट प्रेम के,

बस ख़ुश रहने की अदा सीख लूं।



मान-सम्मान से जिन्दगी जो कटे,

अपनेपन की थोड़ी हया सीख लूं।

भर दूं खुशियों से आंगन सजन,

माफ़ करने की सुन्दर विधा सीख लूं।

कभी भीगे न अश्कों से ये नयन,

अश्रु धारा पोंछने की कला सीख लूं।

रूठकर जाने न दूंगी अपनों को,

क्षमा मांगने की वज़ह ढूंढ लूं ।


अनुपम चतुर्वेदी

 सन्त कबीर नगर, उ०प्र०

© स्वरचित, सर्वाधिकार सुरक्षित

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image