गिनती

 बाल गीत



महेंद्र देवांगन "माटी"

एक चिड़िया आती है, चींव चींव गीत सुनाती है ।

दो दिल्ली की बिल्ली हैं  , दोनों जाती दिल्ली हैं ।।


तीन चूहे राजा हैं  , रोज बजाते बाजा हैं ।

चार कोयल आती हैं  , मीठी गीत सुनाती हैं ।।


पाँच बन्दर बड़े शैतान,  मारे थप्पड़ खींचे कान ।

छः तितली की छटा निराली , उड़ती है वह डाली डाली ।।

सात शेर जब मारे दहाड़ , काँपे जंगल हिले पहाड़ ।

आठ हाथी जंगल से आये , गन्ने पत्ती खूब चबाये ।।


नौ मयूर जब नाच दिखाये , सब बच्चे तब ताली बजाये ।

दस तोता जब मुँह को खोले , भारत माता की जय जय बोले ।।


महेंद्र देवांगन "माटी"

पंडरिया

जिला - कबीरधाम

छत्तीसगढ़


Mahendradewanganmati@gmail.com



Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
मैं मजदूर हूँ
Image