नियति से लड़कर

 

नीलम द्विवेदी

नियति से लड़कर क्या करना,

नियति से डरकर क्या जीना,

 नियति तो अपना काम करेगी,

जो होना है वो तो होगा,

हो सकता है कि छीन ले जाए,

होठों तक आया अमृत का प्याला,

जैसे छिन जाया करती है,

भूखे के हाथों का निवाला,

नियति सोच कर रुकना मत,

अपने कर्मों पे डटे रहो,

जैसे किसान नियति से लड़कर,

खेतों में अन्न उगाता है,

आंधी तूफान भले आये,

जीवन की गति कब रुकती है,

आना जाना है परम सत्य,

खोना पाना है परम सत्य,

इसके बीच हमें जो वक्त मिला,

अपनों के बीच खिलाना है,

हर दिन खुशियों का नया पुष्प,

नियति का जोर सिर्फ तन तक,

मन को तो ये छू तक न पाये,

जो नश्वर है वो मिट जाएगा,

पर अमर आत्मा के बंधन,

राधा ने भी तो ये जाना था, 

कि उसकी नियति में नहीं श्याम,

था साथ भले थोड़े पल का,

लेकिन हर पल को बांध लिया,

जो दूर हुआ केवल तन था,

मन से मन जुड़ा रहा सदा,

नियति को हरा दिया देखो,

कण कण में राधेश्याम लिखा।


नीलम द्विवेदी

रायपुर ,छत्तीसगढ़l

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image