हाइकु



नीरज कुमार सिंह

तबाही छाई

वायरस रूप में

आफत आई।


दुबको सभी

संकट टल जाए

कभी न कभी।


रो रही धरा

मानव किए पाप

घड़ा है भरा।


प्रकृति नाश

संकट का दावत

होता विनाश ।



होती सहाई

  अन्न पानी देकर 

धरती माई।



प्रकृति बचा

कर सदा तू सेवा

मिलेगा मेवा।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image