हाइकु



नीरज कुमार सिंह

तबाही छाई

वायरस रूप में

आफत आई।


दुबको सभी

संकट टल जाए

कभी न कभी।


रो रही धरा

मानव किए पाप

घड़ा है भरा।


प्रकृति नाश

संकट का दावत

होता विनाश ।



होती सहाई

  अन्न पानी देकर 

धरती माई।



प्रकृति बचा

कर सदा तू सेवा

मिलेगा मेवा।


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image