परिवार दिवस पर मुक्तक विशेष

  


रिस्तों की मिठास में छनकर लेता है आकार। 

एक दूसरे आपस में करते, हर सपना साकार। 

सुख दुःख दोनों में ही, संम्बन्धों की डोर न टूटे, 

परिवार वही होता है, जिसमें प्यार और सहकार।। 

              डाःमलय तिवारी बदलापुर

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image