परिवार दिवस पर मुक्तक विशेष

  


रिस्तों की मिठास में छनकर लेता है आकार। 

एक दूसरे आपस में करते, हर सपना साकार। 

सुख दुःख दोनों में ही, संम्बन्धों की डोर न टूटे, 

परिवार वही होता है, जिसमें प्यार और सहकार।। 

              डाःमलय तिवारी बदलापुर

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image