मेरा गांव(गीत)

 

डा.देवेन्द्र शर्मा

आता है याद मुझको

मेरा गांव रे ,

जिंदगी ने खेला मुझसे ,

कैसा दांवरे ।

ओ सजन सांवरे !

याद आते मुझको ,

वे गूलर के पेड़ ,

देखो वे खिरनीं जातीं,

अरे !छेड़ छेड़ ।

हूक उठा जाती ,

वन खंडी छांव रे! ओ सजन..

तपती दोपहरी मुझे,

बुलाए इमली ,

दूर से पुकार जाती ,

मुझको मंडली ।

अम्मा पुकारे ,

जाता कौन ठांव रे!ओ सजन ..

कुंड तैराकियां ,

होतीं अधीर ,

लोग तैर जाते,

इस उस तीर ।

भैया भाभी हैं

मेरे कैसे भांवरे !ओ सजन..

रात को होती थीं ,

रामलीला ,

झूले हिंडोले से

सावन सजीला ।

दौड़ जाते देखने ,

बीच गांव रे! ओ सजन..

नीम के पेड़ों पर ,

झूले डाल-डाल ,

झूलतीं एक संग

सखी चार-चार ।

गीत गातीं भाभियां, रचे पांव रे!ओ सजन..

आई है चिट्ठी ,

पहले प्रहर ,

लाएगी भाभी

मेरे शहर ।

बोल रहा छत पर,

कौवा कांव रे! ओ सजन..

डा.देवेन्द्र शर्मा

अलवर (राज.)

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image