छंद बद्ध एक रचना....

 


साधना कृष्ण

ए भारत की रमणी,कहाँ किसी से हारी है।

आफत संकट में भी ,खुद को वो संवारी है।।


जन्म से मरण तक, केवल सुख बाँटती।

अंत समय आया तो,लगे अपनों को भारी है।।


कंकर पत्थर के मकां , वही बनाती है घर।

साफ -सफाई में मानो ,सुख चैन भी वारी है।।


होती जरा भावुक वो ,माफी जल्दी दे देती है।

मांग रही है सम्मान , अभी लड़ाई जारी है।।


मत भूलो कि वो माँ है ,पालक भी वो बनती।

समझ नहीं आता कि , क्यों जीवन दोधारी है।।



Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image