तू मुझमें है



रश्मि मिश्रा 'रश्मि'

कभी तू राग बन करके, कभी अनुराग बन करके 

प्यार की आग बन करके मेरे दिल में दहकता है


कभी अमृत का बन प्याला, कभी जैसे कोई  हाला 

कभी बन करके मधुशाला,जाम जैसा छलकता है!!


बसंती सी बयारों सा, तू दरिया के शरारों सा

कभी सावन घटाओं सा मेरे तन पर बरसता है।


मुझे अब प्रीत तुमसे है,मेरी हर जीत तुमसे है

मेरी सांसो की सरगम में तेरा ही साज बजता है


रश्मि मिश्रा 'रश्मि'

भोपाल(मध्यप्रदेश)

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image