तू मुझमें है



रश्मि मिश्रा 'रश्मि'

कभी तू राग बन करके, कभी अनुराग बन करके 

प्यार की आग बन करके मेरे दिल में दहकता है


कभी अमृत का बन प्याला, कभी जैसे कोई  हाला 

कभी बन करके मधुशाला,जाम जैसा छलकता है!!


बसंती सी बयारों सा, तू दरिया के शरारों सा

कभी सावन घटाओं सा मेरे तन पर बरसता है।


मुझे अब प्रीत तुमसे है,मेरी हर जीत तुमसे है

मेरी सांसो की सरगम में तेरा ही साज बजता है


रश्मि मिश्रा 'रश्मि'

भोपाल(मध्यप्रदेश)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image