जय मां गंगे

गंगा सप्तमी पर विशेष


डॉ.अनिल शर्मा 'अनिल'

वैशाख का शुक्ल पक्ष,सप्तमी तिथि का दिन,

इसी दिन गंगा मैया, जाह्नवी कहलाई।

इस नामकरण की,कहता हूं मैं कहानी,

पढ़ी है किताबों में जो, विद्वानों ने सुनाई।।

राजा भगीरथ लाए,धरा धाम आई गंगा,

वेगवान प्रवाहित,जय श्री गंगा माई।

विशाल, पहाड़,वन, पत्थर चट्टानें बड़ी,

तोड़ती,उखाड़ती मां, संग में बहा लाई।।


बैठे हुए जप तप,करते थे जाह्नु ऋषि,

उनका कमंडल भी, बहाए लाई गंगा।

इससे क्रोधित ऋषि,ने पी लिया गंगाजी को,

पल भर में ऋषि ने,अब सुखाई गंगा।

प्रार्थना करने लगे,जाह्नु से भगीरथ जी,

उनको किया प्रसन्न,तब छुड़ाई गंगा।

कर्ण राह गंगा छोड़ी,जाह्नु ऋषि ने तब,

इसीलिए तो जाह्नवी,भी कहलाई गंगा।।

* डॉ.अनिल शर्मा 'अनिल'

धामपुर,उत्तर प्रदेश

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image