गजल



देवकी दर्पण

अब संकेतो मे समझाना सीखो। 

नयनो नयनो मे बतलाना सीखो।।१।। 


बहरा गये श्रवण तेरी झिक झिक से। 

चक्षु से दो जाम पिलाना सीखो।।२।। 


छोडो नाद सिंहनी जेसा सजनी। 

अगमाजो से काम बताना सीखो।।३।। 


खुद को बाहर लाओ तुम अंधियारे से। 

अमिट प्रेम का दीप जलाना सीखो।।४।।


चीख चीख कर हमे बुलाना भूलो। 

बस अमृत वेणो से सहलाना सीखो।।५।। 


मत कोसो नाजायज सह नही पाऊगा। 

भावों का अंदाज लगाना सीखो।।६।। 


चोट लगे जिससे नाजुक दिल को।

मरहम वह अल्फाज बनाना सीखो।।७।। 


टोको गलत राह पर पग पड़जाये तो। 

उलाहना इस दर्पण को देना सीखो।।८।।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image