रोशनाई

 



अतुल पाठक " धैर्य "

बेहद संभल के लिखना पड़ता है दिले जज़्बात को,

वरना रोशनाई पे नहीं गहराई पे सवाल उठने लगता है।


लहू मांगती है कलम अब रोशनाई से काम नहीं होता,

सच्चाई दम तोड़ती है अब झूठा इंसान नहीं रोता।


मैं ज़मीर की आवाज़ हूँ,

मैं बुलंद सी आगाज़ हूँ।


पन्ने पन्ने पे है ज़िक्र मेरा,

रोशनाई हूँ इक अलग अंदाज मेरा।


कभी आँसू में घुल जाती मैं,

कोई दिल से लिखता पढ़ता तो मुस्काती मैं।


धुँधले पड़ जाएं हर्फ़ तो क्या,

इक अलग सी छाप छोड़ जाती मैं।


रचनाकार-अतुल पाठक " धैर्य "

पता-जनपद हाथरस(उत्तर प्रदेश)

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मैंने मोहन को बुलाया है वो आता होगा : पूनम दीदी
Image