गजल


सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'


मौत के हिज्जे ना कर आ अमन की बात कर।

बेरुखी मत ठाने इन्सां चमन की बात कर, 



हवा और दवा भी अब चोर लूटे खा रहे, 

आबोहवा सुधार कर आ हवन की बात कर। 


दवा की किल्लत से बेमौत नादां मर रहे, 

जिन्दगी को जीत ले नहीं कफन की बात कर। 


इक दूजे से अदालत सी अदावत छोडकर, 

आ जाजम पर बैठ जा मत दमन की बात कर।


दारा, सिकन्दर, जूलियस, चंगेज खाँ मिट गये, 

जुल्मोसितम को छोड़कर आ मिलन की बात कर। 


कयामत के कहर ने मानव को हिला डाला।

अब तो दूर दोजख से रह सुमन की बात कर। 


कौन रह पाया मुकम्मल दुनिया में आजतक, 

सब मिट जाएँगे 'सुलभ' तू जतन की बात कर। 


सुभाषिनी जोशी 'सुलभ'

इन्दौर मध्यप्रदेश

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मतभेद
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image