जीवित कैसे रह पाओगे..?

अमृता पांडे

क्या पाओगे

जो जंगल में आग लगाओगे

जलाकर पशु पक्षियों का घर

कैसे सुरक्षित रह पाओगे..? 


प्रकृति उतना ही तो देगी

जितना संभाल पाओगे

क्यों अधिक की लालसा में

पागल हुए जाते हो... 


क्यों काटकर 

पेड़ों की डालों को

पक्षियों को बेघर 

कर जाते हो, 


क्यों रोकते हो 

नदिया की धार को

पानी बरसता है 

फिर बादल बनता है, 


यूं ही यह सुन्दर

जीवन चक्र चलता है

तोड़कर इस चक्र को 

कैसे जीवित रह पाओगे..? 


   अमृता पांडे

हल्द्वानी  नैनीताल

Popular posts
सफेद दूब-
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image