कुछ नहीं भा रहा

पिंकी सिंघल


अपने ही अपनों से कटे जा रहे हैं

मुसीबतों में किसी के न काम आ रहे हैं


लगा है हर कोई बस ख़ुद को ही बचाने 

न जानें दिन अब ये कैसे आ रहे हैं


चुनाव न रैली न ही वादे भा रहे हैं

रक्षा के प्रभु से सभी गीत गा रहे हैं

काम नहीं है दूजा चिंता के सिवा कोई

न जाने दिन अब ये कैसे आ रहे हैं


मजदूरों को मुफलिसी के गिद्ध खा रहे हैं

काल कवलित उफ़ बिन कफ़न ही जा रहे हैं

है चारों तरफ़ फैला बेबसी का ही मंजर

न जाने दिन अब ये कैसे आ रहे हैं


जरूरतमंद दवा और न हवा पा रहे हैं

क्या सजा देकर प्रकृति को ख़ुद सजा पा रहे हैं

जा रहे हैं लोग ज्यों लेकर अधूरे सपने

न जाने दिन अब ये कैसे आ रहे हैं


बड़े बेचैन और व्याकुल सब नजर आ रहे हैं

एक दूजे को सब ही ढांढस बंधा रहे हैं

हवाओं में जैसे घुला गया हो ज़हर 

न जाने दिन अब ये कैसे आ रहे हैं 


पिंकी सिंघल

अध्यापिका

शालीमार बाग

दिल्ली

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image