जिंदगी की कुलबुलाहट

 

डॉ पंकजवासिनी

 जिंदगी की हसीन कुलबुलाहट! 

जा दुबकी है किसी कोने में!!

सारे सलोने सपने कुचल गए हैं! 

वैश्विक महामारी के घनतम अँधेरे में!! 


लाशों की लंबी कतार में 

धुआँ धुआँ हो रही जिंदगी!!! 


चारों ओर पसरा है 

मौत का सन्नाटा...! 

महामारी रोज मार रही 

चांटे पर चांटा...!! 

कोई घर नहीं है बचा 

इसकी आतंकी मार से! 

काट रहा है कोरोना मनुज को 

मौत की धार से!! 

चारों ओर गुंजित हैं...

 सिसकियाँ पर सिसकियाँ!! 

प्रभु तू दिखला दे धरा को

 जिंदगी की कुलबुलाहट भरी झलकियाँ!!!


*डॉ पंकजवासिनी*

असिस्टेंट प्रोफेसर

भीमराव अंबेडकर बिहार विश्वविद्यालय

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image