क्योंकि मैं बेटी थी


कवि मुकेश गौतम 

======================= 

जब से आयी गर्भ में दुखी हुए माँ बाप। 

बेटे की जो आस में करतें थे नित जाप।।1।।

------------------------------------------

मैं बेटा ना बन सकी यही रहा संताप।

मरवा देते गर्भ में नहीं समझते पाप।।2।।

-------------------------------------------

पा जाऊं यदि जन्म मैं पूरा घर खामौश।

बेटा जैसी क्यूँ नहीं यही मुझे अफसोस।।3।।

------------------------------------‐-----

पग-पग पर पीड़ा मिली मिला न थोड़ा तोष।

मुझे विधाता ने गड़ा है मेरा क्या दोष।। 4।।

---------------------------------------

सदा नजर में ही रही भाई को सब छूट।

भारी मन से जी रही पीकर पीड़ा घूँट। ।5।।

------------------------------------------

माँ के संग हर काम में सदा दिया था साथ।

भाई के हर कष्ट में जागी थी हर रात।।6।।

--------------------------------------------

सदा शीश पर ही रखा पापा का आदेश। 

सुनना आदत सी बनी न आया आवेश।।7।।

-----------------------------------------

हर दिन घर की आरती तुलसी पूजन रोज।

साथ्या संझ्या मांडणा है बेटी की खोज।।8।।

------------------------------------------

सबको आदर भाव दे फिर भी बेटी बोझ।

सदा उपेक्षित सी रही क्यूँ बेटी हर रोज।।9।।

--------------------------------------

बेटा सम बेटी गिनों बेटी जग की शान। 

बेटी की रक्षा से ही मेरा देश महान।।10।।

=======================

                          -रचनाकार 

                      कवि मुकेश गौतम 

                       डपटा,बूंदी(राज)

Popular posts
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
गीता सार
भिण्ड में रेत माफियाओं के सहारे चुनाव जीतने की उम्मीद ?
Image
सफलता क्या है ?
Image