गगन में आस का सूरज चमकता ही रहेगा

 


भले ही आज गहरा हो अंधेरा

गगन में आस का सूरज चमकता ही रहेगा

न हारो जिंदगी की जंग,हर संघर्ष को जीतो

चुनौती है बड़ी, , बढ़कर हर एक तूफान को झेलो

इसी विश्वास का संबल , हमारा हौसला होगा,

अगर रुकता हो जीवन का सफर,हम फिर खड़े होंगे

करें खुद को सुरक्षित, और लंबे फासले होंगे

बढी है दूरियां फिर भी, नहीं उम्मीद हम छोड़ें

वही फिर प्यार का मंजर,वही फिर कारवां होगा,

गगन में आस का सूरज चमकता ही रहेगा,

ओ हवाओं कितना भी प्रतिघात कर लो,

यह दिया विश्वास का जलता रहेगा

गगन में आस का सूरज चमकता ही रहेगा


पद्मा मिश्रा  

जमशेदपुर झारखंड

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image