नागफ़नी का फूल

डॉ निरूपमा वर्मा 

मेरे बाग के फूलों में ---

एक है सबसे प्यारा फूल 

न सुरभि  उसमे मोगरे की 

न हरसिंगार जैसा रूप 

न वह पीतवर्ण सूरजमुखी 

न गुलाब की है  खूबसूरती 

शूल  के मध्य बसेरा उसका 

लाखों शूल हैं उसके साथी 

असँख्य नन्हे शूल उसका घर

फिर भी खिलता इस उलझन  में 

तितली -भंवरों को नहीं भाता 

ईश चरणों से  वंचित रह जाता 

फिर भी हौसलों का तूफ़ां भरता 

उसूल जिंदादिली का वो  रखता 

बिना खाद पानी के  डटे रहता 

खिल के मरुभूमि में सुकूँ दे जाता  

वह अकेला नागफनी का फूल 



 एटा उ. प्र.

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image