नागफ़नी का फूल

डॉ निरूपमा वर्मा 

मेरे बाग के फूलों में ---

एक है सबसे प्यारा फूल 

न सुरभि  उसमे मोगरे की 

न हरसिंगार जैसा रूप 

न वह पीतवर्ण सूरजमुखी 

न गुलाब की है  खूबसूरती 

शूल  के मध्य बसेरा उसका 

लाखों शूल हैं उसके साथी 

असँख्य नन्हे शूल उसका घर

फिर भी खिलता इस उलझन  में 

तितली -भंवरों को नहीं भाता 

ईश चरणों से  वंचित रह जाता 

फिर भी हौसलों का तूफ़ां भरता 

उसूल जिंदादिली का वो  रखता 

बिना खाद पानी के  डटे रहता 

खिल के मरुभूमि में सुकूँ दे जाता  

वह अकेला नागफनी का फूल 



 एटा उ. प्र.

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image