ग़ज़ल............

 



सुबह-दोपहर-शाम है,

पल-पल काम तमाम है।


मैं शायर हूँ मेरा तो,

लिखना ही बस काम है।


सबकी खातिर दुनिया है,

मेरा तो बस राम है।


लहू छलकता आँखों से ,

दुनिया कहती जाम है।


स्वर्ग सरीखा मेरा घर,

लगता चारों धाम है।


मेरा कुछ भी खास नहीं,

मेरा सब कुछ आम है।


छोडो ' गुलशन' की बातें,

वह तो अब बदनाम है।


..डॉ. अशोक 'गुलशन'

उत्तरी क़ानूनगोपुरा

बहराइच ( उत्तर प्रदेश)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image