भावनाएँ बारिश की

 


सुधीर श्रीवास्तव

ये भी अजीब सी पहली है

कि बारिश की भावनाओं को तो

पढ़ लेना बहुत मुश्किल नहीं

समझ में भी आ जाता है

पढ़कर समझ में भी आता है।

परंतु भावनाओं की बारिश

कब, कहाँ कैसे और

कितनी हो जाय ,

कोई अनुमान ही नहीं।

हमारी ही भावनाएं

कब, कहाँ, कैसे और कितनी

कम या ज्यादा बरस जायेंगी

हमें खुद ही अहसास तक नहीं।

भावनाओं की बारिश के

रंग ढ़ग भी निराले हैं,

अपने, पराये हों या दोस्त दुश्मन

जाने पहचाने हों या अंजाने, अनदेखे

जल, जंगल, जमीन, प्रकृति,

पहाड़, पठार या रेगिस्तान

धरती, आकाश या हो ब्रहांड

पेड़ पौधे, पशु पक्षी ,कीट पतंगे,

झील, झरने,तालाब ,नदी नाले

या फैला हुआ विशाल समुद्र,

सबकी अपनी अपनी भावनाएं हैं

और सबके भावनाओं की

होती है बारिश भी।

इंसानी भावनाएं होती सबसे जुदा,

इन्हें और इनकी भावनाओं को

न पढ़ सका इंसान तो क्या

शायद खुदा भी।

भावनाएं और उसकी बारिश की

लीला है ही बड़ी अजीब सी।

● सुधीर श्रीवास्तव

      गोण्डा, उ.प्र.

    8115285921

©मौलिक, स्वरचित

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
आशीष भारती एवं मिनाक्षी भारती को सौशल मीडिया के माध्यम से द्वितीय वैवाहिक वर्षगांठ की मिली शुभकामनाएं
Image