ईश्वर को पाती

 

रेखा शाह आरबी

हे प्रभु क्या क्या

कलयुग में दिन दिखा रहे

जब तुम्हें है ताप बढ़ाना

बारिश पर बारिश करा रहे


क्या सारे नियम को

इस वर्ष बदल दिए

जेठ में बारिश तो

सावन का क्या हल दिए


बता देना उस अनुरूप

हम भी करेंगे तैयारी

आपदा में हारे थके

हम इंसान हैं भारी


मंदिरों पर ताले बंद कर

खुद तो कर रहे आराम

हमको जिंदा बचने का

दे दिए हो कठिन काम


ज्यादा आलस्य उचित नहीं

आओ कार्यभार संभालो

थोड़ी चिंताएं कम करके

हमको इससे निकालो


चहू ओर बहा देना

सुखद खुशियों के फूल

कान पकड़ते हैं प्रभु

अब ना करेंगे भूल


रात दिन करेंगे

तुम्हारी प्रकृति से प्यार

हम मनुष्यों को अपनी

गलतियां है स्वीकार 



जिला बलिया उत्तर प्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image