ग़ज़ल

ज्योति मिश्रा 

आँधियों से  गिराए जाएंगे 

आशियाँ हम बनाए जाएंगे 


कुछ निशां पाँव के बनाने हैं 

वर्ना कल को भुलाए जाएंगे 


काट डालेंगें सब्ज़ पेड़ों को 

 घर में गमले  लगाए जाएंगे


घर का छप्पर उदास होगा फिर 

गर कबूतर  उड़ाए जाएंगे


धूप  उतरेगी कैसे आँगन में 

  घर जो ऊँचे  बनाए  जाएंगे


हर घड़ी मौत दे रही दस्तक 

कब ये मनहूस साए जाएंगे 


थोड़े ग़म तो दबा लिए दिल में 

कैसे लश्कर छुपाए जाएंगे 


जब तलक धड़कनों की सरगम है 

गीत  उल्फ़त के गाए जाएंगे 


फिर बग़ावत करेंगे दीवाने 

फिर से पहरे लगाए जाएंगे


खूबियाँ याद कौन करता है 

एब ही बस गिनाए जाएंगे 


बात फूलों की मान जाओ तुम 

वर्ना पत्थर  उठाए जाएंगे


हो मुक़ाबिल  हवा या तूफ़ाँ हो

पर दिया हम जलाए जाएंगे


ज्योति मिश्रा 

पटना

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image