बचपन के दिन


 बचपन के दिन आ गए,फिर जीवन में यार,

साठ  बरस बीते जहां ,छाई  मस्त बहार,

 छाई  मस्त बहार,खुशी अब पास बुलाती,

दिखते प्यारे ख्वाब ,नींद पूरी अब आती ,

आओ खेलें साथ ,उमर तेरी भी पचपन ,

मस्ती के दिन चार,चलो फिर जी लें बचपन। 

--

महेंद्र कुमार वर्मा

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image