वैवाहिक वर्षगाँठ की हार्दिक शुभकामनाएं

 


नीरज कुमार द्विवेदी

बन मेरी प्राणप्रिया मानी थी तू मुझे पिया,

आठ साल पहले तू पकड़ी कलाई थी।

बाबुल की बगिया को सींचा जिसे तुमने था,

मेरे लिए स्वर्ग सा वो धरा छोड़ आई थी।

टुकड़ा जो दिल का था मेरे हाथ सौंपकर, 

अश्रु के पयोधि मैं कितना बहाई थी।

साथ नहीं छूटे अब जनम-जनम तक,

दोनो ने ही संग-संग कसम ये खाई थी।

नीरज कुमार द्विवेदी

गन्नीपुर-श्रृंगीनारी

बस्ती-उत्तरप्रदेश 

दि ग्राम टुडे प्रकाशन समूह परिवार की ओर से द्विवेदी दम्पत्ति को वैवाहिक वर्षगांठ की हार्दिक शुभकामनाएं बहुत बहुत बधाई


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image