श्रमिक

 

मीनू 'सुधा

श्रम ही कर्म, श्रम ही धर्म

श्रम ही जीने का आधार।

हांँ ,जी हांँ! मैं श्रमिक हूँ,

करता हूंँ खून- पसीने का व्यापार।

एड़ी से चोटी एक करूँ,

नित कूआँ खोदूँ पेट भरूँ।

जब थक कर दो पल रुकता हूंँ,

ठंडी सी आहें भरता हूंँ ,

आंँखों के आगे धुंधला -सा

एक चित्र उभर कर आता है,

बाहें फैलाए , मुन्ना मेरा

क्या लाए? पापा कहता है,

चूल्हे के आगे पत्नी भी

राशन की राहें जोह रही,

मुन्नी अकुलाई आंँखों से

पापा का रस्ता देख रही।

फिर उठता हूं दमखम से मैं,

ना थकने का मुझको अधिकार।

हांँ, जी हांँ! मैं श्रमिक हूँ

करता हूँ खून -पसीने का व्यापार। 

मीनू 'सुधा,(मीनू त्रिपाठी)

बस्ती, उत्तर प्रदेश

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image