ग़ज़ल

 हाय कोरोना

      


रोशनी किरण 

             आपदा का समय भी निकल जायगा । 

             खौफ़ का भी ये मंज़र बदल जायगा ।। १ ।।


             ध्यान ख़ुद का रखें और घर में रहें _

             ठीक होंगे सभी , जग संभल जायगा ।। २ ।।


             जो रखोगे नहीं ध्यान अपना सखा _

            क्या पता वक्त तुमको भी छल जायगा ।।३ ।।


             इस कोरोना _ कहर ने किया नाश सब _

             देख संसार को दिल दहल जायगा ।। ४ ।।


             आह सबकी " किरण " अब रुलाती हमें _

             देख दानव सभी मन पिघल जायगा ।। ५ ।।

             _______ 

                         

Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
पापा की यादें
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image