मेरा हृदय उद्गार

 !!मास्क लगाए चले जा रहे हैं!! 

गिरिराज पांडे 

दिखाई नहीं देता चेहरा अब उनका

 लगा मास्क ओ तो चले जा रहे है

 कैसे मैं देखूं ये रोशन सा चेहरा

 इच्छा दबाए चले जा रहे हैं

 मुस्कान आंखों पर रखकर के अपने

छिपा करके लाली चले जा रहे हैं 

ढककर के चेहरे को आंखों से अपने

 आंखें लड़ा कर चले जा रहे हैं 

झुका कर के पलके यूं नजरें मिलाकर 

इशारा ओ हमको किए जा रहे हैं 

करके भी पर्दा हमेशा ही अपने 

पर्दे के बाहर चले जा रहे हैं 

मिली जो नजर उनके भाव में डूबा

 आंखों से मदिरा पिए जा रहे हैं 

जालिम शिकारी सा बैठा हूं मैं भी 

कैद दिलों में किए जा रहे है 


गिरिराज पांडे 

वीर मऊ 

प्रतापगढ़

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image