पहेली

नीलम राकेश 

 जिले की श्रेष्ठ धाविका] कॉलेज को श्रेष्ठ वक्ता एक दिन शतपदी की रस्म निभा, दुल्हन का वेश धर एक नए आंगन में किसी की परिणिता बन उतर गई । एक माह तो पंख लगा कर निकल गये ।

 वह चकित थी जिस तेज चाल ने उसे अनेक मैडल दिलाये थे वही अब कटाक्ष का कारण बनने लगे । बोलने के जिस गुण ने तालियों से आकाश गुंजाया था वही अब तानों का वायस बन गया।

 ‘‘‘‘चुप कर लड़की] चुप ही नारी का गहना है । तेरी मॉं ने तुझे कुछ भी नहीं सिखाया है ।’’ जैसे जुमले नित की बात बन गए ।

 कच्ची उम्र की तरूणि इस पहेली का हल ढूंढ़ने का प्रयास करने लगी कि उसके माता-पिता उसके जिन गुणों को हर आगन्तुक को बताते नहीं अघाते थे उन्हीं गुणों को माता-पिता तुल्य सास-ससुर क्यों अवगुण की श्रेणी में रखते हैं ।

 दुनियॉं के उतार-चढ़ाव से गुजरी मॉं ने एक पल में इस पहेली का हल सुनाया । 

‘‘‘‘बेटी] तेरा बेटी से बहू बन जाना ही इस अन्तर का कारण है।’’

 चकित] ठगी सी रह गई लड़की । पहेली का हल अभी भी उसकी समझ में नहीं आया था ।

नीलम राकेश 

610/60, केशव नगर कालोनी

सीतापुर रोड, लखनऊ

 उत्तर-प्रदेश-226020,              

दूरभाष नम्बर : 8400477299

neelamrakeshchandra@gmail.com

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image