जब नाम देना नहीं ताे यूं बदनाम कराता क्याें है ?

 

जुदा करना हाेता है ताे यहाँ मिलाता ही क्याें है ?

बेवफा बनाना हाेता है ताे वफ़ा कराता ही क्याें है ?


इश़्क के चक्कर में इस तरह बीत जाता है दिन

जब सांझ भी ढ़लनी हाेती है ताे प्रभात कराता ही क्याें है ?



गुमनाम की दुनिया भी यहाँ अज़ीब सी ही लगती है

जब नाम देना नहीं ताे यूं बदनाम कराता क्याें है ?


तुझे कभी हमसे मिलना ही नहीं किसी डगर में

फिर हमारी राह में तू कांटा बन आता ही क्याें है ?


   Shivam pachauri

Glass industrial area

        Firozabad

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image