मेरे शहर में

 राकेश चंद्रा 

मेरे शहर में

मैं तुम और वह तो है

पर हम नही हैं]


क्योंकि हम बनता है

मोहब्बत के हाड़-मास में

इंसानियत के ताजा, स्वस्थ खून से.

 

मेरे शहर में]

खून का अंतर बताने के लिए

शेड कार्ड बिकने लगे है]

और दीवारों पर

ताजा] स्वस्थ खून पाने के लिये

ईनामी इश्तिहार दिखने लगे हैं.

 

मेरे शहर में

बंट चुका है सारा आकाश

रंग-बिरंगे परचमों में

और बंट चुकी है इंच इंच जमीन.

मेरे] तुम्हारे और उसके नामों में.

जो न बंट सका

रह गया जो शेष बार- बार

वह था-सिर्फ

मुट्ठी भर प्यार

मेरे शहर में

मैं] तुम और वह तो हैं

पर हम नहीं हैं. 

  राकेश चंद्रा 

                                                                                       610/60, केशव नगर कालोनी

सीतापुर रोड, लखनऊ 

उत्तर-प्रदेश-226020,              

दूरभाष नम्बर : 9457353346

                                                                                                                   rakeshchandra.81@gmail.com

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image