अंतर का भेद टूट जाए

 

मनु प्रताप सिंह 

   बने प्रेम-मन से , सुंदर जहान।

एक शरीर , एक ही युक्त पहचान।

फिर कैसे हो गये, भिन्न इंसान।

हमें बाँटने वाले महाज्ञान,

के घर लूट जाए।

अंतर का भेद टूट जाए।।


वंचितों का क्रोध , फूटेगा रोष में।

सभ्य लुटेरों , आओ अब होश में।

दो दिन,ज़रा बिताओ खानाबदोश में।

मुकुटधारी धन - पूँजी के कोश में,

हाय!सब कुछ लूट जाए।

अंतर का भेद टूट जाए।।


●मनु प्रताप सिंह 

चींचडौली,खेतड़ी

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image