तुम आगे बढ़ना सीखो

ललिता पाण्डेय 

संघर्षो से जूझ-जूझ के

तुम आगे बढ़ना सीखो

राह कठिन कमजोर डगर है

फिर भी तुम बढ़ना सीखो

हर राही का साथ निभा

मानवता का दे संदेश 

जीवन में रंग भरना सीखो।


संघर्षो से जूझ-जूझ के

तुम आगे बढ़ना सीखो।


माना साथ नही जमाना

कल ये ही रोकर पछतायेगा

तुम फिर भी हाथ थामना

ये स्वयं शर्म से झुक जायेगा


संघर्षो से जूझ-जूझ के

तुम आगे बढ़ना सीखो।


आज इंसानियत हुई खाक है

लूट-खसोट का खुला बाजार है

फिर भी देव-तुल्य दे साथ रहे है

धरा का संतुलन बना रहे है।


संघर्षो से जूझ-जूझ के

तुम आगे बढ़ना सीखो।


देख रहा है आज ईश भी

कुछ कमियाँ जो हुई कृति में

उनका हल भी अभी मौन है

जान गया वो पापी कौन है।


संघर्षो से जूझ-जूझ के

तुम आगे बढ़ना सीखो


ललिता पाण्डेय 

दिल्ली

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image