कलम का तीर


कीर्ति चौरसिया

अपने मन के भावों को 

जब हम पन्नों पर लिखते हैं,

लोग पढ़ कर मुस्कुराते हैं

और किताबों पर छपते हैं !!!


दिल की हर तमन्ना को 

सिर्फ कलम समझती है,

कितने दर्द पाले हैं

कितनी हसरत संभाली है !!


किसी की चीख को सुनकर

कलेजा भर गया था जब,

चलाना सीखा था कलम

जो रुकती नहीं है अब !!!


जमाना क्या करेगा सितम

जो मैंने ही ये कर डाला ,

अपने सुर्ख ख्वाबों को 

स्याही में मिला डाला !!!


हाथ लिखते नहीं 

दर्द की नुमाइश से डरते हैं,

ये कलम है ,जो मचल जाती है

कागज को सजाने में !!!


कलम हमारी भी

तेजी से चलने लगी है अब,

बनकर तीर कलम को

निशाना साधते हैं अब !!!!

      कीर्ति चौरसिया

    जबलपुर ( मध्य प्रदेश)

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
मधुर वचन....
Image