गीत

विद्या शंकर विद्यार्थी 

जरे गाँव जवार ए भइया मचल हाहाकार बाटे 

कऽरता दरदिया गोहार हो 

खाँसी से खाँसी पाटे जर से पाटे जरवा हो 

लागता टनके कपार हो 


घाम ना लहरिया के हउए ई असरिया हो 

हउए कोरोनवा के मार हो 


केहुए ना ठेकत बउए निष्ठुर चहेता बउए 

धधकता सँउसे बिहार हो 


माई के कोखिंया में जनम दिहलऽ बिधना हो 

अब तूँ बचावऽ ना बिहार हो। 



Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मतभेद
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image