गीत

विद्या शंकर विद्यार्थी 

जरे गाँव जवार ए भइया मचल हाहाकार बाटे 

कऽरता दरदिया गोहार हो 

खाँसी से खाँसी पाटे जर से पाटे जरवा हो 

लागता टनके कपार हो 


घाम ना लहरिया के हउए ई असरिया हो 

हउए कोरोनवा के मार हो 


केहुए ना ठेकत बउए निष्ठुर चहेता बउए 

धधकता सँउसे बिहार हो 


माई के कोखिंया में जनम दिहलऽ बिधना हो 

अब तूँ बचावऽ ना बिहार हो। 



Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image