पार्वती के नाथ

 

वैशाली सिसोदिया 

 पार्वती के नाथ,

तुम हो भोलेनाथ, तुम्ही महादेव, तुम्ही त्रिदेव,,,

देवो के देव, महादेव

जटाधारी, भुजंगधारी,


शिरोधरा भागीरथी,

कंठ में धारण वासुकी।

कैलाश में रहने वाले,

शमशान विचरण करने वाले,

नीलकंठ कहलाने वाले,

कभी रौद्र,

कभी शांत,

कभी मौन,

कभी मुखर।

भस्म का चोला,

भांग का गोला,

आग का शोला,

कभी जलता हुआ,

कभी बर्फ सा पिघलता हुआ।

आदि से अंत तक,

नख से शिख तक,

शुरू से आखिर तक,

चारों दिशाओं में,

तीनों लोकों में,

कभी समाधि में,

कभी तांडव में,

आजन्मा हूं, मृत्युंजय हूं,

नश्वर हूं,

           " मैं " 

शिव हूं, शिव हूं, शिव हूं ।

        🙏🙏🌹🌹

वैशाली सिसोदिया 

हैदराबाद


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
भगवान परशुराम की आरती
Image
पुराने-फटे कपड़े से डिजाइनदार पैरदान
Image