पार्वती के नाथ

 

वैशाली सिसोदिया 

 पार्वती के नाथ,

तुम हो भोलेनाथ, तुम्ही महादेव, तुम्ही त्रिदेव,,,

देवो के देव, महादेव

जटाधारी, भुजंगधारी,


शिरोधरा भागीरथी,

कंठ में धारण वासुकी।

कैलाश में रहने वाले,

शमशान विचरण करने वाले,

नीलकंठ कहलाने वाले,

कभी रौद्र,

कभी शांत,

कभी मौन,

कभी मुखर।

भस्म का चोला,

भांग का गोला,

आग का शोला,

कभी जलता हुआ,

कभी बर्फ सा पिघलता हुआ।

आदि से अंत तक,

नख से शिख तक,

शुरू से आखिर तक,

चारों दिशाओं में,

तीनों लोकों में,

कभी समाधि में,

कभी तांडव में,

आजन्मा हूं, मृत्युंजय हूं,

नश्वर हूं,

           " मैं " 

शिव हूं, शिव हूं, शिव हूं ।

        🙏🙏🌹🌹

वैशाली सिसोदिया 

हैदराबाद


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image