एक दीया आस का

 


रेखा रानी

जब तक ज़िंदगी है ,

हँसकर गुजारो यारों।

 मत जियो निराशा में

बिंदास गुजारो यारों।

तय किया है उस रब ने,

तुम केवल अपना क़िरदार,

निभालो यारों।

 बुरा वक्त है,

गुज़र जाएगा

हर एक लम्हा

तेरी ज़िंदादिली से,

महक जाएगा।

बस एक बार खुलकर

 खिलखिला लो यारों।

रेखा भोर आज़ भी ,

बाट जोहता है तेरी,

रात कहर की,

हिम्मत से गुजारो यारों।

थम ही जाएगीआंधी

कोरोना महामारी की,

एक दीया आस का जला लो यारों।

रेखा रानी:

विजयनगर गजरौला,

जनपद अमरोहा,

 उत्तर प्रदेश।

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image