एक दीया आस का

 


रेखा रानी

जब तक ज़िंदगी है ,

हँसकर गुजारो यारों।

 मत जियो निराशा में

बिंदास गुजारो यारों।

तय किया है उस रब ने,

तुम केवल अपना क़िरदार,

निभालो यारों।

 बुरा वक्त है,

गुज़र जाएगा

हर एक लम्हा

तेरी ज़िंदादिली से,

महक जाएगा।

बस एक बार खुलकर

 खिलखिला लो यारों।

रेखा भोर आज़ भी ,

बाट जोहता है तेरी,

रात कहर की,

हिम्मत से गुजारो यारों।

थम ही जाएगीआंधी

कोरोना महामारी की,

एक दीया आस का जला लो यारों।

रेखा रानी:

विजयनगर गजरौला,

जनपद अमरोहा,

 उत्तर प्रदेश।

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
पीर के तीर
Image