मां



आशा सिंह

मां आज अगर तू होती,

मुझे गले लगा जी भर रोती,

निज गुण को मुझमें देख कर,

हर बात पर हंस हंस कर,

हर फिक्र को नजरंदाज कर

मैं भी तो अब हंस लेती हूं।

सब कहते हैं मैं तेरी छाया हूं।

      ‌जब मुझे तू टोका करती थी,

      बाहर निकलने पर रोका करती थी।

       मैं तेरी बातों से झगड़ती थी,

    अच्छी नहीं मैं कहती थी,

ना जाने कब तू समझा गई,

अपनी सब बातें बता गई

अब तेरे जैसा करती हूं,

मैं तेरी छाया हो गई हूं।

आशा सिंह

मोतिहारी पूर्वी चंपारण बिहार

13/05/2021

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
पापा की यादें
Image