लॉक डाउन में भी खुले आम बिकता है मुर्गे एवम् बकरे का गोस्ट

 संवाददाता

मोहनलालगंज लखनऊ लॉक डाउन में भी मोहनलालगंज क्षेत्र में दिन भर सजी रहती बकरा ,मुर्गा बेचने वालो की दुकानें ग्रामीणों ने कहा आखिर सरकार दोहरी चाल क्यों चल रही ,गरीब जनता के लिए किराना दुकान दार खोलने पर पीटे जाते है मुर्गा ,बकरा दिनभर बिक रहा  है ।मोहनलालगंज कोतवाली से चंद कदमों की दूरी पर यानी न्यू जेल रोड पर मऊ गांव में दिन भर बकरा काटने वाले सुबह से शाम तक इस लॉक डाउन में भी  दुकानें सजाए रहते है और खरीददारी करने वाले बकरे का मीट बेचने वालो की दुकानों पर लाइन लगाए रहते है अगर आप को बकरे या मुर्गे का मीट खाने की इच्छा है बाजारे बंद है मीट नही मिल रहा आइए शौख से मऊ गांव में कई दुकानें है जहां आपको बकरा एवम् मुर्गा खुले आम बिकता मिल जाएगा लखनऊ की राजधानी में भले ही न मिले लेकिन आपको बिना किसी रोक टोक के मीट खरीदने को मिल जाएगा आखिर मीट बेचने वालो को किसका सरक्षण प्राप्त है  ग्रामीणों ने आरोप लगाया की किराना दुकानदारों को सुबह सात बजे से दोपहर ग्यारह बजे के बाद दुकान खोलने पर पुलिस के कोप भाजन का शिकार होना पड़ रहा है किराना  दुकानदारों को पुलिस ने पीटा एवम् जुर्माना वसूल किया फिर आखिर किसके संरक्षण में मीट की दुकानें सजी है  बकरा काटने वाले दुकानदार  दिन भर में एक एक दुकान पर दर्जनों बकरे काटते रहते है तथा एक दिन में  सैकड़ों की संख्या में  मुर्गे काटे जाते है इससे ग्रामीणों में अक्रोश व्याप्त है। जबकि कुछ समय पहले ही सरकार ने सख्त निर्देश जारी करते हुए पुलिस प्रशासन को आदेश दिया था कि बकरे या मुर्गे की दुकानें खुले आम काटने एवम् बेचने पर प्रतिबंध लगाया था जो  हवा हवाई साबित हो रहा है ।

Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
भोजपुरी के दू गो बहुत जरुरी किताब भोजपुरी साहित्यांगन प 
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image